icon icon

FREE SHIPPING above Rs.350!*

Follow Us:

Author
Nobel Hygiene

In This Article

अगर आप यहां हैं तो इसका मतलब है कि आपने फैटी लीवर के बारे में जरूर सुना होगा। दरअसल, फैटी लीवर जितना आप सोचते हैं उससे कहीं अधिक आम है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आपको इस बीमारी को हल्के में लेना चाहिए। तो फिर फैटी लिवर क्या है? आइये जानते हैं।

लिवर हमारे शरीर का बहुत जरूरी अंग है। इसकी जिम्मेदारियां हैं - पाचन, विषाक्त पदार्थों को साफ करना, रक्त शर्करा को नियंत्रित करना, वसा को कम करना, पित्त और प्रोटीन बनाना आदि। ऐसे में अगर लिवर खराब होने लगे या कोई बीमारी हो जाए तो ये हानिकारक है। इसी में से एक लिवर की बीमारी है, फैटी लिवर। आइए जानते है फैटी लिवर क्या है? इसके लक्षण, फैटी लीवर के नुकसान और लीवर बढ़ने का इलाज।

फैटी लिवर क्या है?

फैटी लिवर 2 तरीके के होते है,

  1. नॉन एल्कोहलिक फैटी लिवर डिजीज (NAFLD)

यह लीवर की समस्या उन लोगों को प्रभावित करती है जो बहुत कम या बिल्कुल भी शराब नहीं पीते हैं। इस में लीवर में बहुत अधिक वसा जमा हो जाती है। यह अधिकतर उन लोगों में देखा जाता है जो सुस्त, अधिक वजन वाले या मोटापे से ग्रस्त हैं।

  1. शराब से संबंधित फैटी लीवर (ALD)

अधिक शराब पीने वाले व्यक्ति इस रोग से पीड़ित होते है। इसके कुछ लक्षण है:

  • लिवर में सूजन,
  • लिवर का बढ़ा हुआ आकार,
  • लिवर में निशान ऊतक (स्कार टिशू) का निर्माण। 

लीवर पर निशान ऊतक का निर्माण वह प्रक्रिया है जिसमें चोट या बीमारी के कारण स्वस्थ लीवर ऊतक को शरीर द्वारा रेशेदार ऊतक से बदल दिया जाता है, जिससे लीवर की कार्यप्रणाली ख़राब हो जाती है।

फैटी लिवर अधिक शराब के सेवन या लगातार शराब पीने से हो सकता है। पर बीते कुछ 30 वर्षो में चिकित्सकों का मानना है की, शराब न पीने वाले व्यक्ति को भी ये बीमारी होने लगी है। 

जब बीमारियों की बात हो तो कभी भी बड़े-बड़े शब्दों को देखकर घबराएं नहीं। आप जितना अधिक घबराएंगे, उतना ही अधिक आप खुद को नुकसान पहुंचाएंगे। इसके बजाय शांत रहें और खुद को शिक्षित करें और उसके अनुसार कदम उठाएं। आइए अब इसके बारे में और जानते हैं।

लिवर के फैटी होने के कारण

फैटी लिवर विभिन्न कारणों की वजह से हो सकता है। हालांकि शराब इसका सबसे प्रमुख कारण है, इसके और भी कई कारण हो सकते है, जैसे की -

  • अधिक मोटापा
  • कुपोषण
  • हेपेटाइटिस सी
  • मधुमेह
  • इंसुलिन प्रतिरोध
  • अत्याधिक कोलेस्ट्रॉल
  • मेटाबोलिक सिंड्रोम

फैटी लिवर के लक्षण और पहचान

फैटी लीवर के क्या लक्षण है? यूं तो लीवर बढ़ने के लक्षण बहुत स्पष्ट रूप से दिखाई नहीं देते, पर कुछ बातें जरूर है जिस पर आपको ध्यान देना चाहिए।  

  • पेट की दाहिनी ओर दर्द
  • लिवर में सूजन
  • असामान्य थकान 
  • भूख ना लगना
  • पुरुषों में सामान्य से बड़े स्तन
  • शरीर का वजन एकाएक बढ़ना, या मतली
  • आखों में पीलापन
  • पेट में पानी भरना
  • खून की उलटी

फैटी लीवर के नुकसान

फैटी लिवर की वजह से आपको इन नुकसानों का सामना करना पड़ सकता है,

  • लिवर में सूजन
  • लिवर कैंसर
  • लिवर सिरोसिस (स्कारिंग)
  • अधिक थकान
  • लिवर की विफलता (लिवर फेल होना)
  • वक्त पर इलाज़ ना होने पर कुछ हद तक मृत्यु की संभावना भी है

फैटी लिवर और अतिसक्रिय मूत्राशय

यदि आपको अतिसक्रिय मूत्राशय या मूत्र संबंधी समस्याएं हैं, यह फैटी लीवर के नुकसान हो सकते हैं।यदि आप इससे पीड़ित हैं, तो ठीक होने तक, फ्रेंड्स डायपर आपको सूखा, साफ और स्वच्छ रहने में मदद कर सकता है। साथ ही साथ पुरषों में सौम्य प्रोस्टेट हाइपरप्लासिया (Benign Prostate Hyperplasia (BPH)) का खतरा भी फैटी लिवर से ही संबंधित बताया गया है। 

फैटी लिवर का इलाज़, आहार और बचाव

फैटी लिवर का इलाज़ या दवा सिद्ध नही है। कुछ बातों को ध्यान में रखकर ही इससे बचा जा सकता है,

  • शराब से दूरी है जरूरी
  • वजन संधारण (maintain) रखें
  • रोज व्यायाम करें
  • हर वर्ष शारीरिक जांच करवाए
  • रक्त की जांच करवाएं
  • मधुमेह (diabetes) से बचे,
  • लिवर बायोप्सी की जांच करवाएं 

इसी के साथ-साथ आपके खान पान में ये बदलाव फैटी लिवर के नुकसान को कम कर सकते है,

  • फाइबर वाले पदार्थ, जैसे की ताज़ी सब्जियां, फल, और साबुत अनाज को ग्रहण करें
  • चावल, आलू, ब्रेड, मिठाई, जैसे कार्बोहाइड्रेट वाले आहार कम ग्रहण करें
  • अपने रोज के आहार में कैलोरी का ध्यान रखें
  • फ्रुक्टोज से भरे जूस को ना पीएं
  • ट्रांस वसा (तली हुई चीजों में पाया जाने वाला फैट) ना खाएं
  • कच्ची, अधपकी शेलफिश ना खाएं

निष्कर्ष

देखिए, हम आपसे मौज-मस्ती बंद करने के लिए नहीं कह रहे हैं। लेकिन आज ही संकल्प लें कि आप उतनी ही स्वस्थ आदतें भी अपनाएंगे। और अगर आपके आस-पास कोई शराब पीता है या बुरी आदतें रखता है, तो उसे भी शिक्षित करें। स्वास्थ्य हमेशा पहले आता है। फैटी लीवर जैसी बीमारी से छुटकारा पाना मुश्किल होता है। यही कारण है कि आपको इलाज खोजने के बजाय इसे रोकना चाहिए।

प्रायः पूछे जाने वाले सवाल

  1. फैटी लीवर को जल्द से जल्द कैसे ठीक करें?

- शराब से बनाओ दूरी, फैटी लिवर से होगी लड़ाई पूरी। व्यायाम करे, खान पान का ध्यान रखे, और नियंत्रित समय में शारीरिक जांच करवाएं। 

  1. फैटी लीवर में क्या क्या परेशानी होती है?

- लिवर शरीर का महत्वपूर्ण हिस्सा है, और अगर ये खराब हुआ तो थकान, आंखों में पीलापन, भूख ना लगना, दर्द, मतली, जैसी परेशानियों से जूझना पड़ेगा। 

  1. फैटी लीवर में क्या नहीं खाना चाहिए?

- शराब, फैट वाले पदार्थ, कार्बोहाइड्रेट वाले आहार, इत्यादि का सेवन फैटी लिवर में नही करना चाहिए।

  1. फैटी लिवर को घर पर ठीक करने का सबसे तेज़ तरीका क्या है?

- व्यायाम, भरपूर पानी, और नियंत्रित आहार ही फैटी लिवर का घरेलू इलाज़ है। पर इसको अपने डॉक्टर और उनकी दी हुई दवाइयों से रीप्लेस न करें! 

  1. फैटी लीवर कितने दिनों में ठीक हो जाता है?

- एक आम व्यक्ति का फैटी लिवर ठीक होने में दो से तीन महीने लग सकते है। अगर व्यक्ति को और भी अन्य बीमारियां है, तो उसे छह महीने तक लग सकते है। 

To get updated on the latest stories across categories choose