icon icon

FREE SHIPPING above Rs.350!*

Author
Nobel Hygiene

In This Article

क्या रात में बार-बार पेशाब जाने के लिए जागना पड़ता है? न चाहते हुए भी बार-बार बिस्तर से उठना नींद को बाधित करता है? रात में नींद न पूरी हो तो अगले पूरे दिन सुस्ती बनी रहती है और आप ऊर्जाहीन महसूस करते हैं। कई बार बाथरूम जाने की प्रक्रिया में ही लीकेज हो जाती है और शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है? न चाहते हुए भी बार-बार पेशाब के लिए उठना न सिर्फ शारीरिक रूप से, बल्कि मानसिक रूप से भी घातक है। 

रात में बार-बार पेशाब आने की समस्या बढ़ती जा रही है, इसके बारे में सावधान हो जाने की आवश्यकता है। कई बार यह अस्थायी समस्या होती है और इसके पीछे सामान्य खान-पान के कारण होते हैं, मगर कई बार इसके पीछे गंभीर कारण हो सकते हैं। इसलिए इसके लक्षणों को नजरअंदाज कर देना सही नहीं है। लक्षणों को पहचानना, इसके पीछे के कारणों को जानना और सही इलाज करना एक गुणवत्तापूर्ण जीवन की कुंजी है। इस ब्लॉग में हम जानेंगे कि रात में बार-बार पेशाब क्यों आता है, रात में बार-बार पेशाब आना कैसे बंद करें और बार बार पेशाब आना इलाज क्या है। 

बार-बार पेशाब आना या मूत्र संबंधी समस्या क्या होती हैं? (Bar Bar Peshab Aana Ya Mutra Sambhandi Samasya Kya Hoti Hai)

गुर्दे (किडनी) द्वारा उत्पादित मूत्र, मूत्रवाहिनी के माध्यम से मूत्राशय में प्रवाहित होता है, जो इसे संग्रहित करता है। जब मूत्राशय भर जाता है, तो नसें मस्तिष्क को एक संदेश भेजती हैं, जिससे वह मूत्राशय को खाली करने का संकेत देता है। इससे मूत्राशय की मांसपेशियां सिकुड़ जाती हैं और स्फिंक्टर मांसपेशियां शिथिल हो जाती हैं, जिससे मूत्र मूत्रमार्ग के माध्यम से बाहर निकल जाता है। पेशाब संबंधी समस्याएँ तब उत्पन्न होती हैं जब इस प्रक्रिया में कोई रुकावट या व्यवधान होता है।

बार-बार पेशाब आना या मूत्र संबंधी समस्याएं शरीर द्वारा उत्पादित मूत्र की आवृत्ति, तात्कालिकता या मात्रा में किसी भी असामान्यता को संदर्भित करती हैं। इसमें शामिल हो सकती हैं:

  •  मूत्र असंयम
  • अतिसक्रिय मूत्राशय, 
  • दिन या रात के दौरान बार-बार पेशाब आना, 
  • दर्दनाक पेशाब, 
  • मूत्र में रक्त और पेशाब करने में कठिनाई जैसी स्थितियां  

बार-बार पेशाब आने के लक्षण (Bar Bar Peshab Aane Ke Lakshan)

बार-बार पेशाब आने के लक्षण अंतर्निहित कारण के आधार पर भिन्न हो सकते हैं। हालाँकि, बार-बार पेशाब आने के कुछ सामान्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • दिन में 8 बार से अधिक पेशाब करने की आवश्यकता पड़ना
  • तुरंत या अचानक पेशाब करने की ज़रूरत महसूस होना
  • शौचालय पहुंचने से पहले पेशाब का रिसाव होना
  • रात में बार-बार पेशाब करने के लिए उठना 
  • ऐसा महसूस होना कि आप अपना मूत्राशय पूरी तरह खाली नहीं कर पा रहे
  • खांसने, हंसने या व्यायाम करने पर मूत्र का रिसाव होना
  • पेशाब करते समय दर्द या जलन होना
  • बादलयुक्त या दुर्गंधयुक्त मूत्र
  • प्यास का बढ़ना

Product Recommendations

रात में बार-बार पेशाब क्यों आता है? (Raat Main Bar Bar Peshab Kyu Aati Hai?)

बार-बार पेशाब आने की समस्याएँ विभिन्न कारकों के कारण हो सकती हैं, जिनमें छोटी असुविधाओं से लेकर गंभीर चिकित्सा स्थितियाँ शामिल हैं। बार-बार पेशाब आने के कुछ संभावित कारणों में शामिल है: 

मधुमेह: उच्च रक्त शर्करा का स्तर नसों और रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे मूत्राशय की कार्यप्रणाली प्रभावित होती है। किडनी आमतौर पर रात में कम पेशाब उत्पन्न करती हैं। लेकिन जब आपको डायबिटीज जैसी चिकित्सीय स्थितियाँ होती हैं, तो वे आपकी किडनियों को सामान्य से अधिक मूत्र का उत्पादन करा सकते हैं। यह बार-बार पेशाब आने का कारण हो सकता है।

मूत्रवर्धक दवा: उच्च रक्तचाप, हृदय रोग और अन्य स्थितियों के इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली कुछ दवाएं मूत्र उत्पादन को बढ़ाती हैं।

गर्भावस्था: हार्मोनल परिवर्तन और बढ़ता गर्भाशय मूत्राशय पर दबाव डाल सकता है, जिससे पेशाब में वृद्धि हो सकती है।

उच्च रक्तचाप: मूत्राशय पर दबाव बढ़ने से बार-बार पेशाब आने की समस्या हो सकती है।

बढ़ी हुई प्रोस्टेट ग्रंथि: बढ़ी हुई प्रोस्टेट ग्रंथि मूत्र के प्रवाह में बाधा डाल सकती है, जिससे बार-बार पेशाब आता है, खासकर रात में।

प्रोस्टेट कैंसर: प्रोस्टेट की समस्या जब अति गंभीर होकर कैंसर का रूप ले लेती है तो भी बार-बार पेशाब आता है। 

अतिसक्रिय मूत्राशय: यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें मूत्राशय भरा न होने पर भी अचानक, तीव्र पेशाब करने की इच्छा होती है।

मूत्र पथ संक्रमण (यूटीआई): मूत्र पथ में एक जीवाणु संक्रमण बार-बार और दर्दनाक पेशाब का कारण बन सकता है।

व्यायाम: सोने से पहले शारीरिक गतिविधि में शामिल होने से आपको पेशाब करने की आवश्यकता बढ़ सकती है।

सामान्य से अधिक मूत्र का उत्पादन: कुछ लोगों को स्वाभाविक रूप से दूसरों की तुलना में अधिक मूत्र का उत्पादन हो सकता है, जिससे बार-बार बाथरूम जाना पड़ता है।

उम्र: जैसे-जैसे लोगों की उम्र बढ़ती है, मूत्राशय और मूत्रमार्ग की मांसपेशियां कमजोर हो सकती हैं, जिससे बार-बार पेशाब आना शुरू हो जाता है।

न्यूरोलॉजिकल स्थितियां: मल्टीपल स्केलेरोसिस और पार्किंसंस रोग जैसी स्थितियां मूत्राशय के कार्य को प्रभावित कर सकती हैं और बार-बार पेशाब आने का कारण बन सकती हैं।

रात को नींद में पेशाब आना कैसे बंद करें? (Raat Ko Neend Main Peshab Aana Kaise Band Kare?)

बार बार पेशाब आना इलाज संभव है। स्थिति में बदलाव देखने के लिए इन सरल सुझावों का पालन करें: 
  • रात के खाने के बाद या सोने से कुछ घंटे पहले अपने तरल पदार्थ का सेवन सीमित करें।
  • कैफीन और शराब का सेवन बंद करें, खासकर दोपहर के बाद।
  • कार्बोनेटेड पेय पदार्थ जैसे सोडा, कोला इत्यादि का सेवन कम करें। 
  • रात के समय मसालेदार भोजन और खट्टे फल जैसे टमाटर, और नींबू इत्यादि के सेवन से बचें।
  • ऐसे खाद्य पदार्थ जिसमें नमक की मात्रा अधिक हो जैसे कि चिप्स और नमकीन स्नैक्स का सेवन न करें। 
  • यदि आपका वजन अधिक है तो अपने वजन को कम करने का प्रयास करें।
  • संतुलित आहार बनाए रखें। अपने भोजन में विभिन्न प्रकार के फल, सब्जियां, साबुत अनाज और लीन प्रोटीन शामिल करें।
  • फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें। फाइबर मल त्याग को नियंत्रित करने में मदद करता है और कब्ज के खतरे को कम कर सकता है, जो मूत्र संबंधी समस्याओं को कम करने में योगदान कर सकता है।
  • कम ऑक्सालेट आहार पर विचार करें। कुछ लोगों का मानना है कि ऑक्सालेट का सेवन कम करने से मूत्र की तात्कालिकता और आवृत्ति को कम करने में मदद मिल सकती है। ऑक्सालेट कुछ खाद्य पदार्थों में पाए जाते हैं, जैसे पालक, और चुकंदर।
  • दोपहर में आराम करते समय अपने पैरों को अपने शरीर से थोड़ा ऊपर उठाएं, जिससे शरीर में तरल पदार्थों का प्रवाह प्रोत्साहित होगा और मूत्राशय पर दबाव डालने वाले तरल पदार्थों की मात्रा को कम करेगा।
  • रात के दौरान नियमित अंतरालों में जागने के लिए एक अलार्म घड़ी का उपयोग करें, ताकि आप बाथरूम का उपयोग कर सकें और अपने ब्लैडर को खाली कर सकें। दिन में भी अलार्म या रिमाइंडर की मदद से नियमित अंतरालों पर पेशाब करने की आदत बनाएं।
  • जब आप नियमित अंतरालों पर पेशाब करने की आदत बना लें, तो धीरे-धीरे बाथरूम जाने के बीच का समय बढ़ाएं। यह आपके ब्लैडर को अधिक मूत्र संग्रहित करने के लिए प्रशिक्षित करेगा।
  • नियमित व्यायाम मूत्राशय की कार्यप्रणाली को बेहतर बनाने और मूत्र आवृत्ति को कम करने में मदद कर सकता है।

यदि आपका बार-बार पेशाब अति सक्रिय मूत्राशय या मूत्र असंयम के कारण होता है, तो दवा मदद कर सकती है। सलाह के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें। 

बार-बार पेशाब आने की दवा/इलाज (Bar Bar Peshab Aane Ki Dawa/Ilaj)

यदि जीवनशैली में बदलाव से मदद नहीं मिलती है, तो आपका डॉक्टर दवा या सर्जरी की सिफारिश कर सकता है। यहां कुछ उपचार विकल्प दिए गए हैं:

1. सेक्रल नर्व स्टिमुलेशन (Sacral Nerve Stimulation):

यह ओवरएक्टिव ब्लैडर को नियंत्रित करने में मदद करता है। आपके डॉक्टर आपके शरीर में एक छोटे से उपकरण को लगाते हैं जो मूत्र के प्रवाह को नियंत्रित करने वाली नसों को सिग्नल भेजता है, और अवांछित मूत्र रिसाव को नियंत्रित करता है।

2. डेट्रूसर मयेक्टोमी (Detrusor Myectomy):

ओवरएक्टिव ब्लैडर के इलाज के लिए यह एक गंभीर ऑपरेशन है। आपका सर्जन ब्लैडर के आसपास की मांसपेशियों के कुछ हिस्सों को हटा देते हैं, जिससे ब्लैडर से मूत्र स्वेच्छापूर्वक नहीं बहता है।

इलाज आमतौर पर स्थिति के पीछे के कारण पर निर्भर करता है। यदि आपकी स्थिति के पीछे दवाएँ कारण हैं, तो आपका डॉक्टर इसे किसी और दवाओं से बदल देंगे। बस अपने डॉक्टर से बात करें और अपनी स्थिति बताएं और वे आपका आगे मार्गदर्शन करेंगे।

फ्रेंड्स अंडरपैड्स (Friends Underpads):

Friends Underpads (फ्रेंड्स अंडरपैड) रात में बार-बार पेशाब आने की समस्या को नियंत्रित करने और अपने फर्नीचर और बिस्तर को सूखा रखने के लिए एक विश्वसनीय समाधान है। उन्नत अवशोषक तकनीक के साथ डिज़ाइन किए गए ये अंडरपैड लीक को सफलतापूर्वक रोकते हैं और अपनी नरम और हाइपोएलर्जेनिक सामग्री के साथ, आपको किसी भी प्रकार के चकत्ते या जलन से बचाते हैं।

फ्रेंड्स एडल्ट डायपर (Friends Adult Diaper)

रात में बार-बार पेशाब आने की समस्या ठीक होने में कुछ समय लग सकता है। तब तक, आपके बिस्तर और चादरों को पेशाब से सुरक्षित रखने के लिए कुछ उत्पाद उपलब्ध हैं। रात में बार-बार पेशाब आने की समस्या के लिए डायपर सबसे व्यावहारिक समाधान है। डायपर निर्माण व्यवसाय में 20 से अधिक वर्षों के अनुभव के साथ, Friends Adult Diaper आपकी सभी जरूरतों को समझता है और आपके मूत्र-रिसाव से संबंधित सभी जरूरतों के लिए डायपर बनाता है। यदि आप रात के लिए डायपर का उपयोग करने पर विचार कर रहे हैं, तो फ्रेंड्स ओवरनाइट डायपर चुनें जो आपको 16 घंटे तक गीलेपन और रिसाव से सूखा रख सकता है। यूरिन लीकेज के साथ लड़ाई में फ्रेंड्स हमेशा आप के साथ हैं।

निष्कर्ष (Summary)

बार बार पेशाब आना इलाज संभव है और आपको इसके समाधान की ओर बढ़ना चाहिए। वरना ये समस्याएं आपके जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकती हैं। इस समस्या के पीछे के कारणों को समझकर और जीवनशैली में बदलाव करके आप रात में बार-बार पेशाब आना बंद कर सकते हैं। 

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs):

रात में बार-बार पेशाब आने पर कैसे नियंत्रण करें?

सोने से पहले तरल पदार्थ सीमित करें, कैफीन और अल्कोहल से बचें, मूत्राशय प्रशिक्षण का अभ्यास करें, सोने से पहले बाथरूम का उपयोग करें और नियमित रूप से व्यायाम करें।

पेशाब करने में कितना समय लगना चाहिए?

पेशाब करने में लगभग 10-15 सेकंड का समय लगना चाहिए। यदि इसमें अधिक समय लगता है, तो यह अतिसक्रिय मूत्राशय या अन्य अंतर्निहित समस्याओं का संकेत हो सकता है।

किस विटामिन की कमी से बार-बार पेशाब आता है?

बार-बार पेशाब आने से जुड़ी कोई विशिष्ट विटामिन की कमी नहीं है। हालाँकि, कभी-कभी कम विटामिन डी का स्तर मूत्र पथ के संक्रमण के खतरे को बढ़ा सकता है, जिससे संभावित रूप से बार-बार पेशाब आने की समस्या हो सकती है।