icon icon

FREE SHIPPING above Rs.350!*

Follow Us:

Author
Nobel Hygiene

In This Article

हमारा शरीर लगातार हमसे कम्यूनिकेट कर रहा होता है और हमें लगातार सिग्नल भेजता रहता है। ये सिग्नल विभिन्न क्रियाओं और प्रतिक्रियाओं के रूप में सामने आते हैं। पेशाब करने की इच्छा भी एक ऐसा संकेत है, जहाँ मूत्राशय (ब्लाडर) यह संदेश भेजता है कि संचित अपशिष्ट उत्पादों (वेस्ट प्रोडक्टस) को बाहर निकालने का समय आ गया है। पेशाब करना शरीर की एक बड़ी सामान्य, मगर अति महत्वपूर्ण प्रक्रिया है जो हमारे समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यूरिन रोकने के नुकसान गंभीर रूप से सामने आते हैं, इसलिए इसे नज़रअंदाज़ करना या इसमें देर करना सही नहीं है।

पेशाब का महत्व

पेशाब रोकने के फायदे और नुकसान समझने के लिए यह जान लें कि पेशाब सिर्फ एक अपशिष्ट उत्पाद नहीं है; यह पानी, इलेक्ट्रोलाइट्स और चयापचय (मेटाबोलिक) उपोत्पादों का मिश्रण है। हमारी किडनी उसके फ़िल्टरेशन सिस्टम द्वारा हमारे रक्तप्रवाह से विषाक्त पदार्थों, अतिरिक्त पोषक तत्वों और अन्य पदार्थों को निकालती है। ये सभी अशुद्धियाँ हमारे पेशाब के माध्यम से बाहर निकल जाती हैं। यह प्रक्रिया न केवल हमारे रक्त को शुद्ध करती है बल्कि हमारे द्रव संतुलन (फ्लूइड बैलेन्स) और इलेक्ट्रोलाइट स्तर को विनियमित भी रखती है।

पेशाब रोकने के परिणाम (peshab rokne se kya hota hai)

यूरिन रोकने के नुकसान कई हैं! जब हम जानबूझकर अपना पेशाब रोकते हैं तो हम इस नाजुक संतुलन को बिगाड़ देते हैं। मूत्राशय (ब्लैडर) पेशाब को संग्रहित करने के लिए बनाई गई एक मांसपेशीय थैली है, जो अपनी सामान्य क्षमता से अधिक खिंच जाती है, जिससे असुविधा और तनाव बढ़ता है। लंबे समय तक भरे रहने से मूत्राशय की मांसपेशियां कमजोर हो सकती हैं, जिससे इसे पूरी तरह से खाली करना मुश्किल हो जाता है। 

पेशाब रोकने के नुकसान (peshab rokne ke nuksan)

पेशाब रोकने के कुछ प्रमुख संभावित नुकसान इस प्रकार हैं:

पेशाब पथ संक्रमण (यूटीआई): पेशाब को रोककर रखने से बैक्टीरिया को पनपने के लिए एक वातावरण मिलता है, जिससे यूटीआई का खतरा बढ़ जाता है। ये संक्रमण पेशाब के दौरान जलन, दर्द और तत्कालता पैदा कर सकते हैं। इसके बारे में और जान्ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

मूत्राशय की अतिसक्रियता: बार-बार पेशाब रोकने से मूत्राशय के सिग्नलिंग तंत्र में बदलाव आ सकता है, जिससे आवृत्ति, तात्कालिकता और यहां तक कि असंयम भी बढ़ सकता है।

गुर्दे (किडनी) की क्षति: गुर्दे में लंबे समय तक पेशाब का प्रवाह इन महत्वपूर्ण अंगों पर दबाव डाल सकता है, जिससे इसकी कार्यक्षमता पर प्रभाव पड़ सकता है।

मूत्राशय का टूटना: अति गंभीर मामलों में अत्यधिक खिंचाव के कारण मूत्राशय फट सकता है। 

सावधानियां एवं सलाह

पेशाब स्वास्थ्य को बनाए रखने और पेशाब रोकने के नुकसान से बचने के लिए इन सरल दिशानिर्देशों को अपनाएं:

सिग्नल पर तुरंत प्रतिक्रिया दें: पेशाब करने की इच्छा को नजरअंदाज न करें। पेशाब में देरी करने से मूत्राशय अधिक भर जाता है, जो कई अन्य समस्याओं को निमंत्रण देता है।

हाइड्रेटेड रहें: दिन भर में बहुत सारे तरल पदार्थ पीने से पेशाब को पतला रखने में मदद मिलती है, जिससे यूटीआई की संभावना कम हो जाती है और मूत्राशय को पूरी तरह से खाली करना आसान हो जाता है।

चिकित्सीय सहायता लें: यदि आपको कोई असुविधा, दर्द या पेशाब करने में कठिनाई का अनुभव हो तो तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें। शीघ्र उपचार से जटिलताओं को रोका जा सकता है।

निष्कर्ष

हमारा शरीर संयोजन में कार्य करता है, और प्रत्येक शारीरिक कार्य हमारे समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है। शरीर के संकेतों को सुनना, स्वस्थ पेशाब प्रणाली को बनाए रखने की कुंजी है। इसके साथ ही, मूत्र असंयमिता और बार-बार पेशाब की इच्छा में असहज होने से बचने के लिए ऐडल्ट डायपर बेहतर समाधान है। FRIENDS Adult Diapers अलग-अलग वेरीएंट्स में आते हैं जो बिना नजर आए सहजता से अपना काम कर जाते हैं। अगर आप ऐसे टॉपिक्स के बारे में और जानना चाहते हैं तो फ्रेंड्स के ब्लोग्स पढ़ते रहें! 😊

FAQs

क्या पेशाब रोकने से किडनी खराब हो सकती है?

हां, लंबे समय तक पेशाब रोकने से किडनी पर दबाव पड़ सकता है। गुर्दे में पेशाब का वापस प्रवाह उनके सामान्य फ़िल्टरिंग कार्य में हस्तक्षेप कर सकता है और संभावित रूप से नुकसान हो सकता है। 

पेशाब को कब तक रोक कर रखना चाहिए?

पेशाब करने की इच्छा पर तुरंत प्रतिक्रिया देना चाहिए और लंबे समय तक पेशाब को नहीं रोकना चाहिए।आमतौर पर, विशेषज्ञ हर 2-4 घंटे में मूत्राशय को खाली करने की सलाह देते हैं।

ज्यादा देर तक कैसे रोके?

आमतौर पर लंबे समय तक पेशाब को रोककर रखने की सलाह नहीं दी जाती है। हालाँकि, यदि आपको थोड़े समय के लिए पेशाब रोकने की आवश्यकता है, तो स्वयं को रिलैक्स करें और गहरी साँस लेने पर ध्यान दें। यदि आपके साथ ऐसा होता रहता है तो फ्रेंड्स एडल्ट डायपर चुनें, साथ ही किसी डॉक्टर से भी परामर्श लें।

ज्यादा देर पेशाब रुकने के कारण (peshab rukne ke karan) क्या होता है

लंबे समय तक पेशाब प्रतिधारण कई जटिलताओं को जन्म दे सकता है, जिसमें यूटीआई, मूत्राशय की अति सक्रियता, गुर्दे की क्षति और यहां तक कि गंभीर मामलों में मूत्राशय का टूटना भी शामिल है।

दिन में कितनी बार पेशाब करना नॉर्मल है?

आम तौर पर 6-8 बार पेशाब करना सामान्य माना जाता है।  लेकिन दिन में औसतन कितनी बार पेशाब करना अलग-अलग कारकों (जैसे बीमारी, उम्र, दवा आदि) पर भी निर्भर करता है।

पेशाब रुक जाने से क्या होता है?

पेशाब रुक जाना, या मूत्र रुकने के कई कारण होते हैं जैसे की कोई इन्फेक्शन, प्रोस्टेट में बढ़त, या फिर किडनी समस्याएं भी। अगर आपको रुक रुक कर मूत्र आ रहा है तो डॉक्टर को दिखाना ही बेहतर होगा।

पेशाब ज्यादा देर तक न निकलने पर क्या होता है?

पेशाब ज़्यादा देर तक न निकलना या फिर "रिटेंशन" की वजह से आपको कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है, जैसे की ब्लैडर की नसों को डैमेज, इन्फेक्शन, और रेयर मामलों में ब्लैडर का फट जाना। यदि आपको ये परेशानी है तो तुरंत अपने डॉक्टर से मिलें।

To get updated on the latest stories across categories choose