जानिए मूत्र असंयमिता क्या हैं? असंयमिता के मुख्य प्रकार, प्रमुख कारण और उपाय |

FREE SHIPPING above Rs.350!

Author
Nobel Hygiene

भारत में 60 मिलियन से अधिक लोग मूत्र असंयमिता से पीड़ित हैं, जिसका मतलब है कि 100 में से लगभग 4 व्यक्ति पीड़ित हैं। ये स्थिति एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकती है। किसी के कपड़ों में कुछ बूंद पेशाब निकलता है, तो कुछ के कपड़ों में काफी ज्यादा निकल जाता है। तो आइए मूत्र असंयमिता के कारणों और एडल्ट डायपर से इसे नियंत्रित करने और एक केयर-फ्री जीवन जीने में आपकी मदद करने के लिए इन सभी को लेकर गहराई से बात करते हैं।

मूत्र असंयमिता पर एक अवलोकन?

Urinary incontinence meaning in Hindi: मूत्र असंयमिता का मतलब होता है कि मूत्राशय को नियंत्रित ना कर पाना। यानी जब पेशाब आए तो उसे रोकने में असमर्थतता होना। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि किडनी से निर्मित होने के बाद मूत्र मूत्राशय में जमा हो जाता है। मूत्राशय की मांसपेशियां आपस में कस जाती हैं और जब भी आपको पेशाब करने की जरूरत होती है, तो स्फिंक्टर की मांसपेशियां मूत्रमार्ग के माध्यम से मूत्र को बाहर निकालने के बाद हल्का (रिलैक्स) हो जाती हैं। असंयमिता तब होती है, जब ये मांसपेशियां काम नहीं करतीं और पेशाब का रिसाव होने लगता है। यूरिन लीकेज ट्रीटमेंट इन हिंदी के बारे में जानने के लिए पढ़ना जारी रखें

असंयमिता के मुख्य प्रकार क्या हैं

  • तनाव असंयमिता (स्ट्रेस इनकॉन्टिनेंस)-  तब होता है, जब आपके मूत्राशय और कमजोर श्रोणी तल (पेल्विक फ्लोर) पर अचानक दबाव के कारण आपको मूत्र करना पड़ता है। तनाव मूत्र असंयमिता आमतौर पर छींकने, हंसने, दौड़ने, कुछ भार उठाने और झुकने जैसी क्रियाओं के कारण होता है।

  • आग्रह असंयमिता (अर्ज इनकॉन्टिनेंस)- इसे तुरंत होने वाली असंयमिता के नाम से भी जाना जाता है। यह तब होता है जब आपको पेशाब करने की इच्छा होती है और आप उसे नियंत्रित नहीं कर पाते। ये सब इतनी तेजी से होता है कि आपको बाथरूम तक पहुंचने के लिए पर्याप्त समय नहीं मिल पाता। आग्रह असंयमिता आमतौर पर नसों और मांसपेशियों में समस्याओं के कारण होता है, जो मूत्राशय को नियंत्रित करते हैं।

  • अतिप्रवाह असंयमिता (ओवरफ्लो इनकॉन्टिनेंस)- अगर आपका मूत्राशय रुकावट के कारण सामान्यतौर पर पेशाब करने के बाद पूरी तरह से खाली नहीं होता है, तो इसका परिणाम मूत्र रिटेंशन हो सकता है। ब्लैडर के तब पूरी तरह भरे होने की संभावना ज्यादा होती है, जिससे peshab bar bar aana अनिवार्य हो जाता है

  • कार्यात्मक असंयमिता (फंक्शनल इनकॉन्टिनेंस)- मानसिक / शारीरिक अक्षमताओं और संचार समस्याओं (बोल पाने या समझा पाने में दिक्कत) के कारण अगर किसी को पेशाब लीकेज की समस्या हो, तो उसे कार्यात्मक असंयमिता कहते हैं। उदाहरण के लिए, जो चल फिर नहीं सकता, वो व्यक्ति शौचालय जाने में असफल हो सकता है या अल्जाइमर के मरीज के साथ ऐसा होता है कि उसे पेशाब तो आ रहा होता है, लेकिन वह बाथरूम जाना ही भूल जाता है।

  • क्षणिक असंयमिता (ट्राजिएंट इनकॉन्टिनेंस)- किसी अस्थायी कारण के चलते मूत्र रिसाव होता है। जैसे- किसी संक्रमण या नई दवा के सेवन के कारण।

  • मिश्रित असंयम (मिक्सड इनकॉन्टिनेंस)- कई लोग दो प्रकार की असंयमिता के संयोजन से पीड़ित होते हैं- जैसे तनाव और आग्रह असंयम।

  • पूर्ण असंयम (टोटल इनकॉन्टिनेंस)- सबसे अधिक स्तर और दुर्लभ मामलों में, मूत्राशय किसी चोट या आनुवंशिक स्थिति के कारण तंत्रिका में हुए नुकसान के चलते मूत्र को जमा करने में विफल हो सकता है।

मूत्र असंयमिता के प्रमुख कारण-

मूत्र असंयमिता आमतौर पर डिट्रूसर मसल के अधिक सक्रिय रहने के कारण होता है। जिसका काम मूत्राशय के संचालन को नियंत्रित करना है।

मूत्र असंयमिता के संभावित कारणों पर एक नजर डालते हैं

  • यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन- यूरेथ्रल ओपनिंग या किडनी में इन्फेक्शन के कारण ब्लैडर में सूजन, दर्द और जलन होती है। इसके कारण आपको बार-बार पेशाब करने की इच्छा होती है और मूत्राशय की अन्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। आमतौर पर, एक बार संक्रमण का इलाज हो जाने के बाद, ऐसी असंयमिता भी दूर हो जाती है।

  • क्रॉनिक कॉन्सटिपेशन (कब्ज)- सबसे बड़ा peshab bar bar aana karan है कब्ज। मलाशय मूत्राशय के बहुत करीब होता है, और दोनों जगह कई नसें साझा होती हैं। कठोर मल के निर्माण के लिए श्रोणि संरचनाओं पर अतिरिक्त दबाव की आवश्यकता होती है और निकासी के लिए श्रोणि की मांसपेशियों को तनाव देना मूत्राशय को कमजोर कर सकता है और यही चीज असंयमिता का कारण बन सकती है।

  • दवाएं- उच्च रक्तचाप, अवसाद और अनिद्रा जैसी बीमारियों के इलाज में आमतौर पर उपयोग की जाने वाली दवाएं मूत्र उत्पादन में वृद्धि करती हैं और असंयम के लक्षणों को बढ़ाते हुए मूत्राशय पर दबाव डालती हैं।

  • तरल पदार्थ का अधिक सेवन- शराब, कैफीनयुक्त पेय पदार्थ, कृत्रिम रूप से मीठे और सोडे वाले  पेय पदार्थों के सेवन से मूत्राशय अधिक उत्तेजित हो सकता है और असंयमिता के लक्षणों को बढ़ा सकता है। आप पूरे दिन अपने तरल पदार्थ के सेवन पर नजर रखें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि यह 1.5 लीटर से अधिक ना हो।

असंयिमता के दीर्घकालिक कारणों में ये शामिल हो सकते हैं

  • जीर्ण रोग- मधुमेह, गुर्दे और वाहिका रोग जैसी बीमारियां मूत्र असंयम से निकटता से जुड़ी हुई हैं। मधुमेह वाले व्यक्तियों को मूत्राशय के आसपास न्यूरोपैथी या तंत्रिका क्षति होने का खतरा अधिक होता है। उच्च रक्त शर्करा के स्तर के कारण मूत्र का अधिक उत्पादन होता है, जिससे बार-बार मूत्र रिसाव हो सकता है।

  • इंटरस्टिशियल सिस्टिटिस- एक ऐसी बीमारी जो आपके मूत्राशय को सख्त कर देती है और सूजन का कारण बनती है, जिससे आपके मूत्राशय में कम मूत्र जमा होता है।

  • पेल्विक फ्लोर की बीमारियां- जब आपकी पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियां खराब होती हैं, तो यह आपके मूत्राशय सहित आपके अन्य अंगों के कामकाज को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती हैं। बता दें, पेल्विक फ्लोर शरीर के उस हिस्से को कहते हैं, जिसमें ब्लैडर, यूटेरस, वजाइना और रेक्टम होते हैं। यह शरीर के निचले हिस्से में होता है।

  • स्ट्रोक- स्ट्रोक के सामान्य दुष्प्रभावों में से एक है मांसपेशियों की गतिशीलता और नियंत्रण संबंधी समस्याएं, जिसमें मूत्र प्रणाली को नियंत्रित करने वाली मांसपेशियां भी शामिल हैं।

  • मूत्राशय की पथरी- गुर्दे की पथरी आपके पेशाब के निकलने में बाधा उत्पन्न कर सकती है और लंबे समय तक मूत्राशय की कठिनाइयों के साथ दर्द का कारण बनती है। इसलिए पथरी मूत्र असंयमिता का कारण बनती है।

  • मल्टीपल स्केलेरोसिस (एमएस)- अल्जाइमर, मल्टीपल स्केलेरोसिस और पार्किंसन जैसी न्यूरोलॉजिकल (दिमागी) स्थितियां अक्सर तंत्रिका सिग्नल्स के संचार में बाधा डालती हैं। जबकि इसका काम शरीर में मूत्र की गति को सुविधाजनक बनाना होता है। लेकिन अगर संचार ठीक से ना हो, तो इससे नियमित रूप से मूत्र रिसाव होता है। अध्ययनों से पता चलता है कि एमएस वाले 80 प्रतिशत से अधिक व्यक्ति मूत्र असंयम विकसित करते हैं।

  • प्रोस्टेट (पौरुष ग्रंथि) का बढ़ जाना- मूत्राशय की नेक के आसपास की प्रोस्टेट ग्रंथि आपके शुक्राणुओं को पोषण देने और उनकी रक्षा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। प्रोस्टेटिक हाइपरप्लासिया और प्रोस्टेटाइटिस ऐसी स्थितियां हैं, जहां प्रोस्टेट ग्रंथि तनाव असंयम का कारण बनती है।

  • कैंसर- मूत्राशय या प्रोस्टेट कैंसर भी मूत्र असंयमिता का कारण बन सकता है, जिसमें ट्यूमर मूत्र के प्रवाह को अवरुद्ध करता है। कैंसर के इलाज में कीमोथेरेपी शामिल होती है, जो मूत्राशय के आसपास की नसों सहित बाकी नसों को नष्ट कर देता है, जिससे आपके लिए मूत्र को नियंत्रित करना अधिक कठिन हो जाता है। इसके अलावा प्रोस्टेट कैंसर सर्जरी और हिस्टेरेक्टॉमी जैसी कुछ सर्जरी में, स्फिंक्टर की मांसपेशी क्षतिग्रस्त हो सकती हैं, जिससे मूत्राशय की समस्या हो सकती है।

असंयमिता के लक्षण क्या हैं

एक बार जब आप urine incontinence meaning in Hindi में स्पष्ट हो जाते हैं, तो आइए इसके पीछे के लक्षणों  पर एक नज़र डालते हैं।

मूत्र के रिसाव से जुड़ी समस्या के निदान के लिए आपको मूत्र असंयमिता के शुरुआती लक्षणों की पहचान करनी चाहिए जैसे:

  • बार-बार पेशाब करने के लिए टॉयलेट जाना पड़ता है

  • जब आप हंसते हैं, झुकते हैं, खांसते हैं, कूदते हैं या किसी दबाव वाले शारीरिक कार्य को करते हैं, तो मूत्र का रिसाव होता है

  • लगातार यह महसूस करना कि मूत्राशय खाली नहीं है

  • पेशाब करने के लिए अपने मूत्राशय पर दबाव डालना

  • मूत्र प्रवाह का खराब अनुभव होना

  • रात के बीच में पेशाब करने के लिए कई बार अपनी नींद में खलल डालना

  • नींद के दौरान बिस्तर गीला करना
  • तीव्र और अचानक आग्रह करने के बाद मूत्र को नियंत्रित करने में असमर्थ होना

मूत्राशय की इस समस्या के समाधान के लिए आप एक डायरी मेंटेन कर सकते हैं। जिससे यह ट्रैक कर सकते हैं कि आप कितने तरल पदार्थ का सेवन करते हैं, आप कितनी बार पेशाब करते हैं, और कितनी बार मूत्र रिसाव होता है, इससे डॉक्टर को आपकी स्थिति को बेहतर ढंग से समझने में मदद मिल सकती है।

एडल्ट डायपर मूत्र असंयम की चुनौतियों से निपटने में कैसे मदद कर सकते हैं?

एडल्ट डायपर पहनना आपके जीवन की गुणवत्ता को कम करने वाले मूत्र असंयम से निपटने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है। यहां तक ​​​​कि जब आप असंयम के लिए मेडिकल और पारंपरिक इलाज से गुजरते हैं, तो एडल्ट डायपर लक्षणों से निपटने में महत्वपूर्ण साबित हो सकते हैं।

एडल्ट डायपर मूत्र असंयम वाले व्यक्तियों को सार्वजनिक रूप से मूत्र रिसाव की चिंता को हल करके शर्मनाक स्थितियों से बचाते हैं। चूंकि बार-बार और अचानक पेशाब करने की इच्छा से निपटना काफी परेशान करने वाला हो सकता है, इसलिए एडल्ट डायपर असंयम के साथ जीवन को और अधिक सुविधाजनक बनाते हैं। यूरिन लीकेज ट्रीटमेंट इन हिंदी में, हम आपको एडल्ट डायपर लेने की सलाह देते हैं

अब आप इधर-उधर भागने और किसी भी स्थान पर बाथरूम ढूंढने की घबराहट और तनाव से छुट्टी पा सकते हैं। फ्रेंड्स एडल्ट डायपर्स के साथ आप आजादी को गले लगा सकते हैं और जहां चाहें वहां जा सकते हैं, रह सकते हैं। अवशोषण और रिसाव के नियंत्रण के लिए डायपर को दिन और रात दोनों समय में पहना जा सकता है।

मूत्र असंयम के दौरान रिसाव आपके कपड़ों और बिस्तर पर दाग छोड़ सकता है। ऐसे में एडल्ट डायपर यह सुनिश्चित करने में मदद करते हैं कि आपको कभी भी अपने कपड़ों को मूत्र रिसाव से खराब होते नहीं देखना पड़े।

एडल्ट डायपर असंयम के कारण मूत्राशय से उत्पन्न होने वाली दुर्गंध को आसानी से अवशोषित कर सकते हैं, जिससे आपके आसपास के लोग आपकी स्थिति को लेकर चिंता मुक्त रह सकते हैं। मरीज मल असंयम, दस्त और चिड़चिड़ाहट से निपटने के लिए भी इसे पहन सकते हैं।

एडल्ट डायपर के प्रकार-

  • ब्रीफ्स- इस तरह के एडल्ट डायपर के किनारों पर टैब लगे होते हैं। कपड़े या प्लास्टिक के बैकिंग्स को बांधा जा सकता है और बार-बार पहना भी जा सकता है।

  • पुल-अप्स डायपर- ये अंडरवियर की तरह होता है, जिसे अधिकतम आराम के लिए जल्दी से ऊपर किया जा सकता है और नीचे खींचा जा सकता है।

  • रियूजेबल डायपर- ये डायपर थोड़े महंगे होते हैं, क्योंकि इन्हें विशेष एब्सॉर्ब करने वाले पैड्स से बनाया जाता है, जिन्हें धोकर सुखाया जा सकता है और दोबारा पहना भी जा सकता है।

एडल्ट डायपर पहनने के लिए आसान टिप्स:

  • बार-बार डायपर बदलना- संक्रमण को रोकने और खुद को साफ रखने के लिए, काफी रिसाव होने के बाद अपने डायपर को नियमित रूप से बदलें।

  • अपनी त्वचा का ख्याल रखें- नाजुक त्वचा पर गीलापन और कट रोकने के लिए अपने डायपर को कोमलता के साथ बदलें। डिसइन्फेक्ट वाइप्स और एक सोप-फ्री माइल्ड क्लीन्जर से आपको साफ सुथरा बने रहने में मदद मिलेगी। एक बैरियर क्रीम या मलम किसी भी घाव से मुक्त होने में सहायता कर सकती है, जो मूत्र के संपर्क में आने के कारण हो जाते हैं।

  • ढीले कपड़े पहनें- अगर आप एडल्ट डायपर के साथ कंफर्टेबल रहना चाहते हैं, तो ढीले-ढाले कपड़े पहनें। Peshab bar bar aana आपके लिए तनाव कर सकता है लेकिन हल्के कपड़े पहनकर आप इसे आसान बना सकते हैं ।

सही एडल्ट डायपर चुनते समय किन बातों का ध्यान रखें

असंयम होने पर अगर आपको आत्मविश्वास महसूस करना है, तो एडल्ट डायपर का चुनाव कर सकते हैं। ये आपकी सभी जरूरतों को पूरा करेगा।

आपको यहां कुछ बातों का ध्यान रखना होगा-

  • प्रकार और उपयोग करने में आसानी- बाजार में उपलब्ध सभी विभिन्न प्रकार के एडल्ट डायपरों में से, आपको वही खरीदना चाहिए जो आपके शरीर के आकार और शरीर के लिए सबसे उपयुक्त हो। बहुत बड़े डायपर से दूर रहें क्योंकि इससे रिसाव की संभावना बढ़ जाती है और बहुत छोटे डायपर भी ना लें, इससे आप अत्यधिक असहज होंगे। आपके डायपर को आपको सामान्य, बोझ-मुक्त महसूस करने और हर समय अपने कपड़ों के साथ कंफर्टेबल रहने में मदद करनी चाहिए।

  • अवशोषण- आपके असंयम की गंभीरता के आधार पर आप कितनी बार और कितना मूत्र त्याग रहे हैं, इसके आधार पर आप अपने डायपर में अवशोषण के स्तर को तय कर सकते हैं।

अगर आप ऐसी दवाएं लेने के बाद सोते हैं जो आपको अतिरिक्त नींद दे सकती हैं या कुछ घंटों के लिए बिना रुके यात्रा कर रहे हैं, तो भारी शोषक डायपर (फ्रेंड्स ओवरनाइट) आपके लिए अच्छे होंगे। हालांकि अगर आप केवल पास की किराने की दुकान, बैंक, या पार्क की यात्रा के लिए घर से बाहर निकलते समय डायपर पहनते हैं तो लाइट एब्जॉर्बेंसी डायपर या पैड (फ्रेंड्स प्रीमियम डायपर या फ्रेंड्स इंसर्ट पैड) बेहतर विकल्प होंगे।

  • सामग्री- आपको अपने द्वारा चुने गए डायपर से पूरे दिन एक अच्छा अनुभव मिले, इसके लिए वो उच्च गुणवत्ता वाला होना चाहिए। सभी प्लास्टिक वाले डायपर के बजाय क्लॉथ-बैकिंग डायपर का विकल्प चुनें, क्योंकि प्लास्टिक के डायपर उनके शोर और बेकार अनुभव के कारण अत्यधिक विचलित करने वाले हो सकते हैं। 

  • लागत और उपलब्धता- अन्य कारकों की तुलना में लागत कम हो, ये जरूरी नहीं है। ऐसे डायपर से बचें जो काफी सस्ते तो हों लेकिन वे जहरीले रसायनों और गंध वाले हों। लेटेक्स से भरे डायपर गुणवत्ता से समझौता करते हैं, जो आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

Urine incontinence meaning in Hindi के बारे में जानना पर्याप्त नहीं है, आपको इस समस्या से निपटने के लिए सही कदम उठाने की भी आवश्यकता है। लोग अक्सर अपने स्थानीय किराना स्टोर और फार्मेसियों में डायपर खरीदने के लिए शर्मिंदगी महसूस करते हैं। हमारे असंयम वाले प्रोडक्ट और एडल्ट डायपर आप आसान प्रक्रिया का पालन करते हुए खरीद सकते हैं। ये आसानी से ऑनलाइन उपलब्ध हैं, जो आपकी निजता की रक्षा करता है।

गंध को नियंत्रित करने की क्षमता- मूत्र की गंध असंयम के सबसे आम और निराशाजनक दुष्प्रभावों में से एक है। अच्छी गंध नियंत्रण प्रणाली वाले एडल्ट डायपर गंध को कम से कम रखने में मदद कर सकते हैं।

क्यों फ्रेंड्स के एडल्ट डायपर मूत्र असंयम की चुनौतियों के प्रबंधन के लिए आपके पसंदीदा विकल्प हैं

फ्रेंड्स प्रीमियम एडल्ट डायपर बुढ़ापे के लिए सही डायपर खोजने के बारे में आपके भ्रम और घबराहट को खत्म कर सकते हैं। जापानी एसएपी तकनीक से बना गहरा शोषक और पोरस कोर इन एडल्ट डायपर पैंट को बनाने के काम आता है। मूत्र असंयम चुनौतियों से निपटने के लिए इसे सबसे बेहतर माना जाता है। कई बाहरी परतों के साथ इसके गीलेपन को रोकने और आठ से दस घंटे तक सूखा अनुभव कराने की गारंटी हम लेते हैं।

कपड़े वाले डायपर को बदलना खराब अनुभव दे सकता है। डिस्पोजेबल होने के कारण, फ्रेंड्स एडल्ट डायपर, कपड़े के डायपर की तुलना में बेहतर स्वच्छता बनाए रखने में आपकी मदद करते हैं। अब आप बिना किसी परेशानी के जल्दी से डायपर बदल सकते हैं और कीटाणुनाशक सामग्री के कारण चकत्ते, लाल त्वचा और संक्रमण की संभावना को कम कर सकते हैं। इस प्रकार एलोवेरा की अच्छाइयों से भरपूर फ्रेंड्स डायपर आपकी त्वचा को अधिक नरम और स्वस्थ रखते हैं। साथ ही आपकी असंयम की परेशानी भी नियंत्रित हो जाती है।

एडल्ट डायपर पैंट विशेष रूप से इलास्टिक वेस्टबैंड के साथ डिजाइन किए गए हैं और अधिकतम सुरक्षा और आराम सुनिश्चित करने के लिए भारतीयों के शरीर के प्रकार के हिसाब से हर साइज में मौजूद हैं। यूनिसेक्स एडल्ट डायपर एम, एल, एक्सएल, डबलएक्सएल जैसे विभिन्न साइज में आते हैं। इसके अलावा इनमें एक इंटेलिजेंट ओडोर कंट्रोल सिस्टम होता है, जो डायपर की परतों में दुर्गंध को पूरी तरह से बंद कर देता है।

फ्रेंड्स एडल्ट डायपर एक बार के लिए खरीदे जा सकते हैं, लेकिन वे यह सुनिश्चित करने के लिए चल रहे तीन महीने के सब्सक्रिप्शन मॉडल की भी पेशकश करते हैं ताकि आपके डायपर अचानक से खत्म ना हो जाएं।

मूत्र असंयम से जुड़ा निषेध अक्सर पीड़ितों को आगे आने और उनकी जरूरत की मदद लेने से रोकता है। अपने असतत और स्लिम लुक के साथ, फ्रेंड्स एडल्ट डायपर आपके नियमित कपड़ों के साथ सहजता से कंफर्टेबल होते हैं ताकि आपको शर्मिंदगी का सामना न करना पड़े। 

मूत्र रिसाव को लगातार रोकने के लिए अपने डायपर की जांच करने की कोई आवश्यकता नहीं होती है। फ्रेंड्स डायपर में वेटनेस मॉनिटर होते हैं, जो डायपर की पूर्णता को कुशलता से ट्रैक करते हैं और डायपर बदलने के लिए आपको समय पर अलर्ट करते हैं।

गर्भावस्था के महीनों के दौरान मूत्राशय पर नियंत्रण और असंयम गंभीर चिंता का विषय हो सकता है। ऐसे में फ्रेंड्स मैटरनिटी पैंट्स, अतिरिक्त स्टिकर स्ट्रिप्स के साथ आते हैं, जो सभी महिलाओं को अपनी गर्भावस्था का समय आसानी से बिताने में मदद देते हैं।

फ्रेंड्स ओवरनाइट डायपर लंबी रातों में रिसाव के खिलाफ अधिकतम कवरेज सुनिश्चित करने में मदद करते हैं ताकि आपको कभी भी खराब बिस्तर और भीगे हुए कपड़ों के कारण जागना ना पड़े।

यहां जीवनशैली में कुछ बदलाव बताए गए हैं, जो आपको असंयम को प्रबंधित करने में मदद मिलेगी

  • हेल्दी वजन बनाए रखें- अनुसंधान से पता चलता है कि अधिक वजन होने पर भी पांच से दस प्रतिशत वजन कम करने से असंयम के लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है। इसलिए आपको संतुलित आहार खाना चाहिए, जो आपके शरीर को विटामिन, खनिज और प्रोटीन जैसे सभी आवश्यक पोषक तत्वों की आपूर्ति हो। अम्लीय और मसालेदार भोजन का सेवन न करें, जिससे आपके मूत्राशय में जलन हो सकती है। 

  • हाइड्रेशन- शौचालय जाने को कम करने के लिए कम पानी पीने से यूटीआई हो सकता है और आपके असंयम को बढ़ा सकता है। इसलिए खुद को हाइड्रेट रखने के लिए दिन में आठ से दस गिलास पानी का सेवन करें। सोने से ठीक पहले या कोई भी शारीरिक गतिविधि शुरू करने से पहले पेय पदार्थ पीने से बचें। सुरक्षित साइड पर रहने और अचानक रिसाव को रोकने के लिए, व्यायाम करने से पहले पेशाब करना याद रखें।

  • फाइबर लें- कब्ज मूत्र असंयम का एक प्रमुख कारण है, इसलिए आपको अपने भोजन में अधिक कच्ची सब्जियों और फलों को शामिल करके अपने फाइबर का सेवन बढ़ाना चाहिए।

  • हिलना-डुलना- अगर आप किसी अन्य चिकित्सा स्थिति के कारण बिस्तर पर हैं, तो समय अंतराल पर सीधे बैठने की कोशिश करें और मूत्राशय के अल्सर और बिगड़ती असंयम को रोकने के लिए हिलने डुलने की कोशिश करें।

  • नियमित कीगल एक्सरसाइज- इससे पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियां मजबूत हो सकती हैं और मूत्र असंयम में सुधार हो सकता है। कीगल व्यायाम के लिए, आपको बस अपनी पेल्विक मसल की मांसपेशियों को आराम देना होता है। आप छोटी अवधि के साथ शुरुआत कर सकते हैं और फिर इसे लंबे समय तक रोक कर रख सकते हैं। जितने आराम से कर सकते हैं, उतने दोहराव को पूरा करने का लक्ष्य रखें।

  • धूम्रपान छोड़ें- अगर आप नियमित धूम्रपान करते हैं, तो अपने असंयम के लक्षणों को कम करने के लिए छोड़ दें।

  • अपने मूत्राशय को नियमित रूप से खाली करना- पेशाब करने की इच्छा की प्रतीक्षा करने के बजाय, अपने मूत्राशय की मांसपेशियों को प्रशिक्षित करने के लिए एक निर्धारित समय पर बाथरूम जाने का अभ्यास करना शुरू करें। समय के साथ, अपने मूत्राशय की नियंत्रण क्षमता बनाए रखने के लिए हर बार बाथरूम जाते समय उस अंतर को बढ़ाने  की कोशिश करें। 

  • भारी सामान न उठाएं- भारी वस्तुओं को उठाने से बचें जो आपके मूत्राशय की मांसपेशियों को तनाव दे सकती हैं और आपके असंयम को खराब कर सकती हैं।

हम समझते हैं कि असंयम के साथ रहना चुनौतीपूर्ण और जटिल होता है, लेकिन फ्रेंड्स एडल्ट डायपर वयस्कों के लिए सबसे अच्छा डायपर है, जो यह सुनिश्चित करेगा कि आपको फिर कभी अपने घरों में छिपे नहीं रहना पड़े। इसके अलावा दोस्तों और परिवार की देखभाल, समर्थन और प्यार आपकी असंयम यात्रा को सुरक्षित और खुशहाल बना सकता है। हम आशा करते हैं कि आप urinary incontinence meaning in Hindi और इसके लिए उपलब्ध सर्वोत्तम उपचार के बारे में समझ गए होंगे।

To get updated on the latest stories across categories choose