icon icon

FREE SHIPPING above Rs.350!*

Follow Us:

Author
Nobel Hygiene

In This Article

बेनाइन प्रोस्टेटिक हाइपरप्लाजिया (Benign Prostatic Hyperlasia, BPH/बीपीएच), जिसे बड़े हुए प्रोस्टेट भी कहा जाता है, एक चिकित्सीय स्थिति है जो बुजुर्ग पुरुषों में सामान्य होती है। यह चिकित्सीय स्थिति पुरुषों की उम्र बढ़ने के साथ हार्मोन स्तरों में परिवर्तनों के कारण होती है और यह उम्रदर गति का एक सामान्य हिस्सा है।

पुरुषों में प्रोस्टेट ग्लैंड ब्लैडर के सीधे नीचे स्थित होती है और यह मूत्रनाली, जो मूत्र को ब्लैडर से निकालती है, उसके शीर्ष भाग को घेरती है। जब प्रोस्टेट सूजनशील या बड़ा होता है, तो यह मूत्रनाली पर दबाव डालता है और मूत्र के प्रवाह को रोक देता है।

बीपीएच वाले पुरुषों को निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं:

  • मूत्राशय की प्रारंभ और समाप्ति में समस्या होना

  • मूत्र का कमजोर प्रवाह या कमजोर धारा

  • बार-बार पेशाब करने की इच्छा

  • पेशाब के तुरंत बाद फिर से जाने की आवश्यकता

बीपीएच के लक्षण बहुत असुविधाजनक हो सकते हैं, और आपके जीवन को रोक सकती है। इसलिए पुरुषों को दवाओं के अलावा अपने लक्षणों को सुधारने के लिए तरीकों की तलाश करनी चाहिए।

लेकिन क्या आप यह जानते हैं की प्रोस्टेट समस्याओं के लिए योगासन नियमित रूप से करना सबसे अच्छा व्यायाम है?

2006 में एक अध्ययन में यह साबित हुआ कि योगासन जैसे व्यायाम करने से प्रोस्टेट की समस्या के जोखिम कम हो सकती है और बीपीएच के लक्षणों में सुधार ला सकती है।

इस ब्लॉग में, हम देखेंगे की प्रोस्टेट के लिए योगासन और प्रोस्टेट के लिए एक्सरसाइज कैसे बीपीएच के लक्षणों को नियंत्रित करने में मदद करता है, और कौनसे एक्सरसाइजेज आप कर सकथे है।

बीपीएच के लिए योगासन

बड़े हुए प्रोस्टेट में योगासन बहुत मदद कर सकते हैं। निम्नलिखित योगासन पेल्विक फ्लोर (pelvic floor) को मजबूत करने और पेल्विक तनाव (pelvic tension) को कम करने में अच्छे होते हैं और बीपीएच के लक्षणों, प्रोस्टेट कैंसर के लक्षणों और प्रोस्टेट कैंसर के इलाज के दुष्प्रभाव को सुधारने में सहायता कर सकते हैं।

बद्ध कोणासन

बद्ध कोणासन एक बैठे हुए आसन है जो पेल्विक तनाव को कम करने में मदद करता है। बद्ध कोणासन बड़े हुए प्रोस्टेट को कम करने के कई प्रोस्टेट ट्रीटमेंट व्यायामों में से एक है।

बद्ध कोणासन करने के लिए:

  • एकदम सीधे बैठें और आपकी पैरों को आपके सामने बढ़ाएँ।

  • अपने घुटनों को मोड़कर अपने पैरों की एड़ी को एक दूसरे के ऊपर रखें और अपने पेट के पास जितना हो सके पास लाएं।

  • अब अपने हाथों से दोनों पैर की अंगूठों को पकड़ें।

  • ध्यान रखें कि आपकी घुटनें जमीन पर रहें और अपने कूल्हों में कोई तनाव न रखें।

  • इस मुद्रा पर आप 1 से 5 मिनट तक रह सकते हैं।

वीरासन

वीरासन एक और बैठे हुए आसन है जो पेल्विक तनाव को कम करने में मदद कर सकता है। यह एक आसान आसन है और बढ़ी हुई प्रोस्टेट के लिए एक उत्कृष्ट व्यायाम है।

वीरासन करने के लिए:

  • घुटने टेकें और अपने पैरों के बीच बैठें। ध्यान रखें कि आपकी घुटने एक-दूसरे को छू रहे हों।

  • सीधे बैठें ताकि आपकी रीढ़ की हड्डी सीधी रहे।

  • हाथों को जांघों पर धरें।

  • वजन को हिप्स के बीच में बांधें और घुटनों पर ज्यादा दबाव न डालें।

  • इस स्थिति को कुछ मिनटों तक धारण करें।

  • मुद्रा से निकलने के लिए अपने शरीर को उठाएं और पैरों को आगे की ओर फैलाएं।

सुप्त पादांगुष्ठासन

यह एक लेटने वाला और टांगों को फैलाने वाला आसन है, जो पेल्विक फ्लोर को मजबूत बनाने और टैंशन को कम करने में मदद करता है।

सुप्त पादांगुष्ठासन करने के लिए:

  • पीठ के बल लेटें और टांगों को फैलाएं।

  • बाईं टांग को मोड़ें, अपने अंगूठों को पकड़ें और अपने जांघ को अपनी छाती के पास खींचें।

  • अपनी दाईं पैर को जमीन में दबाए रखें, जहां पैर की उंगलियाँ ऊपर की ओर हों।

  • यदि आपके पैर कम लचीले हैं तो आप पैरों को पकड़ने के लिए स्ट्रैप की उपयोग कर सकते हैं।

  • बाईं पैर को जितना संभव हो सीधा करें।

  • 1 से 5 मिनट तक मुद्रा में रहें।

अपने दूसरे पैर के लिए फिर से निर्देश दोहराएं।

जानुशीर्षासन

कुछ योग अभ्यासकर्ताओं को यह मान्यता है कि यह आसन प्रोस्टेट में रक्त प्रवाह को बढ़ाता है और इसे शुद्ध करने में मदद करता है। हालांकि, यह मान्यता यथार्थगत वैज्ञानिक अनुसंधान द्वारा सिद्ध नहीं हुई है।

जानुशीर्षासन करने के लिए:

  • पैरों को आपके सामने बढ़ाकर जमीन पर बैठें।

  • अपने दाहिने घुटने को आपके बाएं पैर की आंतरिक जांघ के साथ टकटकी में रखें।

  • अपना वजन बाएं पैर पर बनाए रखें और अपने हाथों को आपके सामने लाएं।

  • अग्रेषित होकर अपने बाएं पैर को पकड़ने के लिए आगे की ओर जाएं, जांघों से आगे की ओर झुकें।

  • तनाव को कम करने के लिए इस स्थिति में गहरी सांस लें।

दूसरी ओर करने के लिए यही सभी निर्देश दोहराएं।

धनुरासन

यह लेटकर पीठ को मोड़ने वाला एक आसन है जो पेट, पेल्विक फ्लोर और कमर को मजबूत करता है।

धनुरासन करने के लिए:

  • अपने पेट पर लेट जाएँ और आपके हाथ दोनों ओर हों।

  • अपने घुटनों को मोड़ते हुए, अपने पैरों को अपनी नितंबों के पास लाएँ।

  • अपने हाथ पीछे करते हुए, अपने दोनो टकना को पकड़ें।

  • जब आप अपने घुटनों से अपने पैरों को ऊपर करते हुए जाते हैं, तो अपने सिर, छाती और कंधे भी उठाएँ।

  • ऊपर की तरफ देखते हुए, गहरी साँस लें।

  • 30 सेकंड के लिए इस मुद्रा पर रहें।

विपरीत-करणी

यह एक कठिन योगासन है जिसे केवल तभी आजमाया जाना चाहिए जब आपने अपनी पीठ और पेल्विक फ्लोर में कुछ ताकत बना ली हो।

कई योग अभ्यासकर्ता अनेक यह मानते हैं कि यह आसन सेक्सुअल ग्रंथियों के नसों और मांसपेशियों को उत्तेजित करके प्रोस्टेट के स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद करता है, जिसके कारण यह बढ़ी हुई प्रोस्टेट को कम करने के लिए सबसे अच्छा व्यायाम माना जाता है। लेकिन इसकी सटीकता वैज्ञानिक अनुसंधान द्वारा अभी तक सिद्ध नहीं की गई है।

विपरीत करनी करने के लिए:

  • अपनी पीठ पर लेटें, सिर को जमीन पर आराम से रखें और हाथ शरीर के दोनों ओर आराम से रखें।

  • पैर और टांगों को मिलाए रखते हुए, अपनी पैरों को ऊपर ले जाएँ, अधिक से अधिक उठाएँ ताकि आपकी कूल्हों को जमीन से उठा सकें।

  • अपने पीट को समर्थन देने के लिए अपने हाथों का उपयोग करें, लेकिन अपनी ताकत का उपयोग करें ताकि शरीर को ऊपर उठा सकें, हाथों पर वजन को आराम नहीं देना है।

  • पैरों को कूल्हों के साथ सीधा रखने का प्रयास करें।

  • इस मुद्र पर लगभग 2 मिनट तक रहें।

शुरुवात में योग करना मुश्किल और बहुत समय लेने जैसा लग सखता है, लेकिन नियमित अभ्यास से आप इसे सीख जाएंगे! अभ्यास के साथ, व्यायाम खुद में भी आसान हो जाएगा और आपको मज़ा भी आ सकता है!

योगाभ्यास से आपके चिकित्सा हालत को सुधार लाने के अलावा, आप दूसरे व्यायाम भी कर सकते हैं। एक ऐसा व्यायाम है 'केगल एक्सरसाइजेज' जो योग की तरह पेल्विक फ्लोर मांसपेशियों को मजबूत करने और आपकी ब्लैडर को ट्रेन करने के लिए बनाया गया है।

बढ़ते हुए प्रोस्टेट के लिए एरोबिक व्यायाम भी फायदेमंद होते हैं जैसे कि स्विमिंग, तेज चलना, हाइकिंग जो आपके प्रोस्टेट को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। हम आशा करते हैं कि आप योग आसनों को आजमाने में मज़े करेंगे!

To get updated on the latest stories across categories choose