icon icon

FREE SHIPPING above Rs.350!*

Follow Us:

Author
Nobel Hygiene

In This Article

लेडीज के पेशाब में जलन के पीछे के असली कारण क्या है और क्या है उनका उपाय साथ ही जानेंगे आयुर्वेदिक उपचार। 

लेडीज के पेशाब में जलन क्यों होती है

लेडीज के पेशाब में जलन क्यों होती है, इसके 6 मुख्य कारण हैं: 

  1. मूत्र पथ संक्रमण (यूटीआई)

    मूत्र पथ संक्रमण यानी यूटीआई की समस्या तब सामने आती है जब बैक्टीरिया यूरिनरी सिस्टम में प्रवेश करते हैं और मूत्राशय, गुर्दे या मूत्रमार्ग को संक्रमित करते हैं। इससे सूजन और जलन होती है। 
    महिलाओं में, उनके छोटे मूत्रमार्ग के कारण पेशाब के वक़्त जलन का एक प्रमुख कारण बैक्टीरिया का मूत्राशय में प्रवेश है। यदि यूटीआई का समय पर इलाज न किया जाए, तो यूटीआई अधिक गंभीर जटिलताओं को जन्म दे सकता है, जैसे कि किडनी की क्षति। 
  1. योनि में सूखापन

    चिकनाई की कमी से घर्षण और जलन हो सकती है, जिसके कारण पेशाब में जलन होती है। यह अक्सर रजोनिवृत्त (menopausal) महिलाओं में देखा जाता है क्योंकि जीवन के इस चरण में एस्ट्रोजन के स्तर में गिरावट से योनि शुष्क और कम लोचदार हो सकती है। इसके अलावा , जो महिलाएं हार्मोनल परिवर्तन का अनुभव कर रही हैं, जैसे कि प्रसव, स्तनपान या कुछ दवाओं के कारण, उन्हें भी योनि में सूखापन का अनुभव हो सकता है।
  2. यीस्ट संक्रमण

    कई प्रकार के यीस्ट या फंगल संक्रमण, योनि में सूजन और जलन पैदा कर सकते हैं, जिससे जलन संभव है। 
  3. यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई)

    यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) जो योनि, मौखिक और गुदा मैथुन सहित यौन संपर्क के माध्यम से एक साथी से दूसरे साथी में फैलते हैं। कुछ सामान्य एसटीआई में क्लैमाइडिया, गोनोरिया और हर्पीस शामिल हैं। जब क्लैमाइडिया और गोनोरिया के लक्षण होते हैं, तो यह दर्दनाक पेशाब और जलन के रूप में नजर आ सकते हैं।
  4. मूत्र पथरी

    किडनी की पथरी पेशाब करते समय अक्सर दर्द और जलन पैदा करती है। 
  5. इंटरस्टिशियल सिस्टाइटिस

    एक क्रॉनिक कन्डिशन है जिसमें मूत्राशय (ब्लाडर) और श्रोणि (पेल्विक) में बार-बार दर्द होता है, जो पेशाब में जलन होती है।

इसके अलावा भी कुछ कारण हो सकते हैं जिससे पता लगाया जा सकता है कि लेडीज  के पेशाब में जलन क्यों होती है। जिसके पीछे का कारण डॉक्टर जांच करके बता सकते हैं।  

लेडीस के पेशाब में जलन – उपाय क्या हैं

पेशाब में जलन उपाय के तौर पर इन बातों का ध्यान रखें: 

  1. हाइड्रेटेड रहें

    बैक्टीरिया और विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद के लिए खूब पानी पियें।
  2. सादा भोजन करें

    मसालेदार भोजन और कैफीन का सेवन कम करें।
  3. जरूरत पड़ने पर पेशाब करें

    बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकने के लिए लंबे समय तक पेशाब को न रोकें।
  4. अच्छी स्वच्छता अपनाएं

    बैक्टीरिया को मूत्रमार्ग में प्रवेश से रोकने के लिए जननांगों को आगे-पीछे से  अच्छी तरह पोंछें।
  5. जलन पैदा करने वाले उत्पादों से बचें

    सुगंधित साबुन और ऐसे स्वच्छता उत्पादों से दूर रहें जो योनि में जलन पैदा कर सकते हैं। इनमें ऐसे केमिकल हो सकते हैं जो योनि में बैक्टीरिया और पीएच स्तर के नाजुक संतुलन को बिगाड़ सकते हैं। यह योनि में खुजली, जलन और स्राव जैसी विभिन्न समस्याओं को जन्म दे सकते हैं।
  6. ऐडल्ट डायपर का उपयोग करें

    ऐडल्ट डायपर, कुछ स्थितियों में पेशाब के दौरान जलन के लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद कर सकते हैं। यदि जलन मूत्र असंयम या रिसाव के साथ होती है, तो ऐडल्ट डायपर का उपयोग सुरक्षा प्रदान कर सकता है और मूत्र के लगातार संपर्क के कारण होने वाली त्वचा की जलन को रोकने में मदद कर सकता है। बाजार में मौजूद ऐडल्ट डायपर्स में फ़्रेंड्स ऐडल्ट डायपर्स सर्वोत्तम माने जाते हैं। Friends Premium Adult Dry Pants उच्च गुणवत्ता के लिए पहचाना जाने वाला, साथ ही यह आसानी से 12+ घंटों तक ड्राई रख सकता है। 

पेशाब में जलन की आयुर्वेदिक दवा 

कुछ ऐसे उपाय हैं जिन्हें काफी पहले से पेशाब में जलन की आयुर्वेदिक दवा के तौर पर आजमाया जाता रहा है। 5 प्रमुख उपायों में शामिल है:

  1. गोक्षुरा

    यह एक जड़ी बूटी है जो मूत्र पथ में सूजन और जलन को कम करने और यूटीआई से राहत पाने में मदद करती है।
  2. अश्वगंधा

    एक एडाप्टोजेन के रूप में जाने जाने वाला, अश्वगंधा तनाव को कम करने में मदद करता है और हार्मोनल संतुलन को बढ़ावा देता है।
  3. त्रिफला

    यह एक हर्बल मिश्रण है जो शरीर के दोषों को संतुलित करने में मदद करता है और मूत्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है।
  4. आंवले के रस और शहद

    जीवाणुरोधी गुणों की मौजूदगी के कारण आंवले के रस और शहद का मिश्रण पेशाब में जीवाणु की बढ़ोतरी को प्रबंधित कर पेशाब में जलन को कम कर सकता है। 
  5. नारियल पानी

    अपने ठंडक और मूत्रवर्धक प्रभाव के कारण नारियल पानी काफी फायदेमंद हो सकता है। 

निष्कर्ष

पेशाब में जलन होना कई महिलाओं के लिए एक आम समस्या है, जो अक्सर संक्रमण या हार्मोनल परिवर्तन के कारण होती है। बताए गए कारणों के आधार पर  पेशाब में जलन होने के उपचार के साथ समस्या का समाधान किया जा सकता है। 

पेशाब में जलन की समस्या को नजरअंदाज न करें। यदि आपको पेशाब करते समय जलन के साथ-साथ पेशाब में खून, बुखार या पेट दर्द जैसे लक्षणों का अनुभव होता है, तो आपको तुरंत चिकित्सा सहायता लेनी चाहिए, क्योंकि यह किसी गंभीर समस्या का संकेत हो सकता है।

FAQs

पेशाब की नली में जलन क्यों होती है

पेशाब की नली में जलन कई कारणों से हो सकती है, जिनमें यूटीआई, योनि का सूखापन, यीस्ट संक्रमण, एसटीआई, हार्मोनल असंतुलन, पथरी और इंटरस्टिशियल सिस्टाइटिस शामिल हैं। 

महिलाओं में पेशाब में जलन होने का हार्मोनल कारण क्या हो सकता है?

हार्मोनल बदलाव, विशेष रूप से एस्ट्रोजन के स्तर में कमी, पेशाब के दौरान योनि में सूखापन और जलन पैदा कर सकती है। यह अक्सर रजोनिवृत्त महिलाओं में देखा जाता है। 

पेशाब में जलन होने पर किस प्रकार के डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए?

स्त्री रोग विशेषज्ञ (गायनेकोलॉजिस्ट) या मूत्र रोग विशेषज्ञ से परामर्श करना सबसे अच्छा है। वे सही कारण का पता लगाकर उचित उपचार सुझा सकते हैं। 

महिलाओं में पेशाब में जलन कब गंभीर समस्या मानी जाती है?

जब पेशाब में जलन के साथ पेशाब में खून, बुखार या पेट दर्द जैसे अन्य लक्षण भी हों तो समस्या गंभीर हो सकती है।

पेशाब में जलन के साथ रक्त आना किस बीमारी का संकेत हो सकता है?

पेशाब में जलन के साथ रक्त आना यूटीआई, किडनी स्टोन या कैंसर का संकेत हो सकता है। सही कारण का पता लगाने के लिए डॉक्टर से संपर्क करें। 

To get updated on the latest stories across categories choose