icon icon

FREE SHIPPING above Rs.350!*

Follow Us:

Author
Nobel Hygiene

In This Article

रात के समय मूत्र असंयम हो जाना एक ऐसी समस्या है जिससे काफी लोग जूझते हैं। खासकर वरिष्ठ पुरुषों में यह समस्या बढ़ने लगती है जिसके कारण अनजाने में बिस्तर पर पेशाब आना मूत्र का रिसाव या गीलापन हो जाता है। इस तरह की समस्याएं पीड़ितों के लिए शर्मिंदगी का कारण बनती है और इसलिए इसका समय पर इलाज करना जरूरी है। इस ब्लॉग में आप जानेंगे कि बिस्तर पर पेशाब आना क्या है, नींद में पेशाब आने का क्या कारण है और क्या है नींद में पेशाब करने की बीमारी का इलाज। 

मूत्र असंयम क्या है?

मूत्र असंयम पेशाब का अनैच्छिक रिसाव है। यह एक आम समस्या है जो दुनिया भर में लाखों लोगों को प्रभावित करती है, विशेषकर वृद्ध वयस्कों को। मूत्र असंयम को दो श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है: तनाव असंयम और आग्रह असंयम। तनाव (स्ट्रेस) असंयम तब होता है जब खाँसी, छींकने या व्यायाम जैसी शारीरिक गतिविधियाँ मूत्राशय पर दबाव डालती हैं, जिससे मूत्र का रिसाव होता है। दूसरी ओर, आग्रह (अर्ज) असंयम तब होता है, जब किसी व्यक्ति को पेशाब करने की अचानक, तीव्र इच्छा महसूस होती है, जिसके बाद अनैच्छिक रूप से मूत्र रिसाव होता है।

मूत्र असंयम के लक्षण क्या हैं?

मूत्र असंयम के लक्षणों में शामिल हैं:

  • हंसते, खांसते, छींकते या व्यायाम करते समय मूत्र का रिसाव होना
  • पेशाब करने की अचानक, तीव्र इच्छा होना
  • बार-बार पेशाब आना
  • रात में बार-बार पेशाब करने के लिए जागना
  • समय पर बाथरूम तक न पहुंच पाना

मूत्र असंयम के कारण क्या हैं?

मूत्र असंयम कई कारणों से हो सकता है, जैसे:

उम्रजैसे-जैसे लोगों की उम्र बढ़ती है, उनकी मांसपेशियां और ऊतक कमजोर हो सकते हैं, जिससे असंयम हो सकता है।लिंग: गर्भावस्था, प्रसव और रजोनिवृत्ति के कारण पुरुषों की तुलना में महिलाओं को मूत्र असंयम का अनुभव होने की अधिक संभावना होती है।
मोटापाअधिक वजन मूत्राशय पर दबाव डाल सकता है और असंयम का कारण बन सकता है।
क्रोनिक बीमारियाँमधुमेह, मल्टीपल स्केलेरोसिस और पार्किंसंस रोग जैसी स्थितियाँ असंयम का कारण बन सकती हैं।दवाएंकुछ दवाएं, जैसे मूत्रवर्धक, मूत्र उत्पादन बढ़ा सकती हैं और असंयम का कारण बन सकती हैं।

रात के समय असंयम (Nighttime Incontinence)

रात के समय असंयम की समस्या, रात में बिस्तर पर पेशाब आना (raat ko bistar par peshab hona) या नॉक्टर्नल एन्यूरेसिस (nocturnal enuresis) एक स्थिति है जहाँ आप सोते समय अपने ब्लैडर के नियंत्रण को खो देते हैं, जिसके कारण आप बिना जागे ही पेशाब कर देते हैं और अपना बिस्तर गीला कर देते हैं।

लोग नींद में पेशाब क्यों करते हैं? रात के दौरान आपके शरीर में पेशाब बनता है, जो कि अधिक संकुचित होता है, लेकिन मात्रा में कम होता है, इसलिए आमतौर पर जागने की कोई आवश्यकता नहीं होती है। आप स्वाभाविक रूप से जागृत होने तक इसे संचित कर सकते हैं और पूरी तरह से नियंत्रित रह सकते हैं। अधिकतर लोग किसी प्रकार की समस्या के बिना 6-8 घंटे की आरामदायक नींद प्राप्त करने में समर्थ होते हैं।

रात को बिस्तर पर पेशाब होना (raat ko bistar par peshab hona) जैसे हादसे हो सकते हैं, इसलिए अगर आपने रात के समय असंयम का अनुभव एक-दो बार किया है, तो आपको कोई चिंता करने की जरूरत नहीं है। लेकिन, यदि रात में बार-बार बिस्तर पर पेशाब आना अनुभव कर रहे हैं, तो आपको अपने डॉक्टर को देखने और उनकी सलाह लेने की आवश्यकता होगी। सही समय पर सही कदम उठाने से बिस्तर में पेशाब का इलाज संभव है। 

यह भी पढ़ें – रात में बार-बार पेशाब आना कैसे बंद करें

नींद में पेशाब आने का क्या कारण है?

किसी व्यक्ति के नींद में पेशाब करने के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

अतिसक्रिय मूत्राशय: अतिसक्रिय मूत्राशय के कारण व्यक्ति को बार-बार पेशाब करने की आवश्यकता महसूस हो सकती है, जिसमें नींद के दौरान पेशाब होना भी शामिल है।

मूत्राशय की छोटी क्षमता: कुछ लोगों की मूत्राशय की क्षमता छोटी होती है, जिससे रात में असंयम हो सकता है।

हार्मोनल असंतुलन: हार्मोनल असंतुलन भी मूत्र असंयम का कारण बन सकता है।

नींद संबंधी विकार: नींद संबंधी विकार, जैसे स्लीप एपनिया, नींद के पैटर्न को बाधित कर सकते हैं और असंयम का कारण बन सकते हैं। 

रात के समय असंयम का निदान कैसे किया जाता है?

बिस्तर में पेशाब का इलाज के लिए आपके डॉक्टर आपकी समस्या के निदान और इलाज के लिए निम्नलिखित टेस्ट और प्रक्रियाएं सुझा सकते हैं:

  • शारीरिक जांच
  • यूरिन टेस्ट (urine test)
  • न्यूरोलॉजिकल इवैल्यूएशन (neurological evaluation)

ये टेस्ट आपके डॉक्टर को रात में बार बार पेशाब आने का कारण जानने में मदद कर सकते हैं, और उसके अनुसार रात को नींद में पेशाब आना कैसे बंद करें? इसका उपचार और जीवनशैली में क्या परिवर्तन करें इसके सुझाव भी दे सकते हैं।

मूत्र असंयम का इलाज कैसे किया जाता है?

रात के समय मूत्र असंयम का इलाज आमतौर पर शारीरिक परीक्षण, चिकित्सा इतिहास और मूत्र परीक्षण के माध्यम से किया जाता है। कुछ मामलों में, मूत्र असंयम का कारण निर्धारित करने के लिए अतिरिक्त परीक्षण, जैसे यूरोडायनामिक परीक्षण या सिस्टोस्कोपी की आवश्यकता हो सकती है।

नींद में पेशाब करने की बीमारी का इलाज

नींद में पेशाब करने की बीमारी का इलाज स्थिति के अंतर्निहित कारण पर निर्भर करता है। उपचार के विकल्पों में शामिल हैं:

व्यवहार थेरेपी: व्यवहार थेरेपी, जैसे मूत्राशय प्रशिक्षण और पेल्विक फ्लोर व्यायाम इत्यादि, पेशाब को नियंत्रित करने वाली मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद कर सकते हैं।

दवाएं: एंटीकोलिनर्जिक्स और अल्फा-ब्लॉकर्स जैसी दवाएं, मूत्राशय की मांसपेशियों को आराम देने और पेशाब करने की तात्कालिकता को कम करने में मदद कर सकती हैं।

चिकित्सा उपकरण: मूत्रमार्ग आवेषण और पेसरीज़ जैसे चिकित्सा उपकरण मूत्र रिसाव को रोकने में मदद कर सकते हैं।

सर्जरी: सर्जरी, जैसे स्लिंग प्रक्रियाएं मूत्राशय को मजबूत बनाने और मूत्र नियंत्रण में सुधार करने में मदद कर सकती हैं।

मूत्र असंयम के प्रबंधन में क्या करें और क्या न करें:

क्या करें:

  • पूरे दिन हाइड्रेटेड रहें लेकिन सोने से पहले अत्यधिक तरल पदार्थ के सेवन से बचें
  • अपने मूत्राशय को नियमित रूप से खाली करें
  • पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए नियमित व्यायाम करें 
  • स्वस्थ आहार और वजन बनाए रखें
  • अपनी स्थिति के प्रबंधन के बारे में सलाह के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें

क्या न करें:

  • कैफीन और शराब का सेवन 
  • धूम्रपान 
  • पेशाब करने की इच्छा को नजरअंदाज 
  • जननांग क्षेत्र में कठोर साबुन और डूश का प्रयोग
  • समस्या यह मान कर नजरअंदाज करना कि यह केवल बढ़ती उम्र का एक हिस्सा है

रात को नींद में पेशाब आना कैसे बंद करें?

रोज रात को सोने से पहले इन नियमों का पालन करें:

  • सोने से कुछ घंटे पहले पानी या किसी भी प्रकार के तरल पदार्थों का सेवन न करें।
  • रात में शराब, कैफीन, सामान्य रूप से मूत्राशय को उत्तेजित करने वाले पदार्थों से बचें।
  • रात में टीवी देखते समय या आराम करते समय अपने पैर अपने शरीर से ऊपर रखें। यह आपके शरीर के मूत्र निर्माण और निष्कासन की प्रक्रिया को तेज करने में मदद करेगा।
  • पेशाब करने का एक टाइम-टेबल बना लें और उसे फॉलो करें. जैसे-जैसे आपका ब्लैडर कण्ट्रोल में आने लगे, वैसे -वैसे समय बढ़ाते जाएं, और अपने ब्लैडर को इसमें प्रशिक्षित करें।
  • रात में जागकर पेशाब करने के लिए एक अलार्म सेट करें।
  • यह सभी सुझाव मुफ्त में बिना किसी पैसे के आपकी मदद करेंगे।

मूत्र असंयम के कारगर उपाय 

यदि आप अभी भी रात के समय असंयम से जूझ रहे हैं, तो एक गहरी साँस लें, शर्मिंदा न हों, और नाइट टाइम बेड-वेटिंग के लिए मददगार उत्पादों को खरीदें। अपनी उम्र, बीमारी या कुछ अन्य दुर्घटना के कारण, कई लोग इसी समस्या का सामना कर रहे हैं, इसलिए शर्मिंदा या लज्जित महसूस नहीं करें।

असंयम उत्पाद उन लोगों के लिए बनाए गए हैं जो मूत्र असंयम के कारण अपने जीवन में कोई रुकावट नहीं चाहते। हम Friends Adult Diapers द्वारा बनाए गए ओवरनाइट एडल्ट डायपर और इन्कॉन्टिनेंस अंडरपैड का उपयोग करने की सलाह देते हैं। हमारे 20+ साल के उत्पादन अनुभव ने हमें आपकी जरूरतों को समझने में उत्कृष्ट बनाया है।

फ्रेंड्स ओवरनाइट डायपर हमारा सबसे प्रीमियम प्रोडक्ट है। हमारे ओवरनाइट डायपर का चयन करने वाले उपयोगकर्ताओं को कभी भी किसी और उत्पाद पर वापस जाने की जरूरत नहीं होती है, क्योंकि:

  • ये लीक को तकनीकी रूप से सोख सकते हैं तकरीबन 16 घंटे तक।
  • यह तकरीबन 5 लीटर यूरीन को सहन कर सकते हैं, भारतीय मार्केट में कोई भी डायपर ब्रांड इसके पास भी नहीं आता।
  • ये बदबू को लॉक करें, एंटी-बैक्टीरियल, और केमिकल-मुक्त हैं, जो आपकी त्वचा को खुजली और संक्रमण से बचाने में मदद करते हैं।
  • हमारे सभी डायपर यूनिसेक्स हैं और पैंट और टेप-स्टाइल वेरिएंट में उपलब्ध हैं।
  • फ्रेंड्स अंडरपैड्स आपके गद्दे पर बिछाये जा सकते हैं और उन्हें गीलेपन से सुरक्षित रखने के लिए उपयुक्त हैं। ये हमारी क्लासिक और प्रीमियम रेंज में उपलब्ध हैं।
  • मुलायम नॉन-वोवन सतह और क्रिसक्रॉस डिज़ाइन के साथ लीकेज़ या बहाव को रोकने और अधिकतम शोषण और त्वचा संरक्षण के साथ आते हैं।
  • इसकी विशेष जेल तकनीक तरल पदार्थ को जेल में बदलने में मदद करती है।
  • एंटी-बैक्टीरियल परत से सुरक्षित रहें और बैक्टीरिया से मुक्त रहें।
  • फ्रेंड्स अंडरपैड्स घर के असंयम रोगियों के साथ-साथ अस्पतालों, नर्सिंग होम्स और अन्य चिकित्सा सेंटरों में भी उपयोग किए जाते हैं।

फ्रेंड्स के साथआज़ादी मुबारक!

निष्कर्ष

रात को नींद में पेशाब आना सिर्फ आपकी नींद पर ही असर नहीं डालता, बल्कि यदि बार बार पेशाब आने का इलाज नहीं किया जाए, तो नींद की कमी, थकान, झपकी, और मनोदशा में बदलाव जैसे परिणाम भी हो सकते हैं। इसलिए डॉक्टर से बात करना महत्वपूर्ण है। वे दवाओं की सलाह दे सकते हैं जिससे मूत्र असंयम की समस्याओं का इलाज हो सकता है।  

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल (FAQs)

रात में सोते समय पेशाब निकल जाने का मतलब क्या है?

रात को सोते समय पेशाब जाना एक आम समस्या है जिसे मूत्र असंयम या रात्रिकालीन एन्यूरिसिस के नाम से जाना जाता है। यह विभिन्न कारकों के कारण हो सकता है, जिनमें अतिसक्रिय मूत्राशय, छोटी मूत्राशय क्षमता और हार्मोनल असंतुलन शामिल हैं।

क्या बिस्तर में पेशाब करना एक बीमारी है?

बिस्तर गीला करना, या रात के समय असंयम, कोई बीमारी नहीं है बल्कि एक सामान्य स्थिति है जो वयस्कों को प्रभावित करती है। अगर आप एक-दो बार बिस्तर गीला कर दें तो घबराने की कोई बात नहीं है, पर अगर आपके साथ ऐसा बार बार होता तो आपको अपने डॉक्टर से मिल लेना चाहिए क्यूंकि ये किसी खतरे की घंटी का संकेत भी हो सकता है।

मूत्र प्रतिधारण रात में खराब क्यों होता है?

हार्मोनल असंतुलन और मूत्र उत्पादन में बदलाव के कारण रात में मूत्र प्रतिधारण की स्थिति खराब हो सकती है।

रात में कितनी बार पेशाब आना नॉर्मल है?

रात में एक या दो बार पेशाब जाना सामान्य बात है। हालाँकि, बार-बार पेशाब करने के लिए उठना किसी अंतर्निहित चिकित्सीय स्थिति का संकेत हो सकता है।

To get updated on the latest stories across categories choose